दोस्तों की कमी को पहचानते हैं हम, दुनिया के गमो को भी जानते हैं Hansi Majak

0
Hansi Majak - दोस्तों की कमी को पहचानते हैं हम, दुनिया के गमो को भी जानते हैं हम,
आप जैसे दोस्तों का सहारा है, तभी तो आज भी हँसकर जीना जानते हैं हम.

          *फुर्सत नहीं है*
              *इंसान को इंसान से मिलने की*
                    *ख्वाहिशे रखता है*
                           *दूर बैठे भगवान से मिलने की ...*
              
*दरिया ने झरने से पूछा*
*तुझे समन्दर नहीं बनना है क्या..?*
*झरने ने बड़ी नम्रता से कहा*
*बड़ा बनकर खारा हो जाने से अच्छा है*
*छोटा रह कर मीठा ही रहूँ*

             Hansi Majak

*मन की आंखो से*
    *प्रभु का दीदार करो*
         *दो पल का है अन्धेरा*
           *बस सुबह का *इन्तजार करो*
            *छोटी सी है ज़िंदगी बस*
           *हर किसी से प्यार करो...*
   
        
  *प्यारी-सी सुबह का प्यारा-सा प्रणाम*
             *सुप्रभात




hansi majak - doston kee kamee ko pahachaanate hain ham, duniya ke gamo ko bhee jaanate hain ham, aap jaise doston ka sahaara hai, tabhee to aaj bhee hansakar jeena jaanate hain ham.  *phursat nahin hai* *insaan ko insaan se milane kee* *khvaahishe rakhata hai* *door baithe bhagavaan se milane kee ...*  *dariya ne jharane se poochha* *tujhe samandar nahin banana hai kya..?* *jharane ne badee namrata se kaha* *bada banakar khaara ho jaane se achchha hai* *chhota rah kar meetha hee rahoon* hansi majak *man kee aankho se* *prabhu ka deedaar karo* *do pal ka hai andhera* *bas subah ka *intajaar karo* *chhotee see hai zindagee bas* *har kisee se pyaar karo...*  *pyaaree-see subah ka pyaara-sa pranaam* *suprabhaat

Post a Comment

0Comments

Thanks for any suggestions or questions! We will reply to your message soon.

Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(60)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !