एक बार एक व्यक्ति मरकर नर्क में पहुँचा, तो वहाँ उसने देखा कि प्रत्येक Hansi Majak

0
Hansi Majak - एक बार एक व्यक्ति मरकर नर्क में
पहुँचा, तो वहाँ उसने देखा कि प्रत्येक
व्यक्ति को किसी भी देश के नर्क में जाने
की छूट है । उसने सोचा,
चलो अमेरिका वासियों के नर्क में जाकर देखें,
जब वह वहाँ पहुँचा तो द्वार पर पहरेदार से
उसने पूछा - क्यों भाई अमेरिकी नर्क में
क्या-क्या होता है ? पहरेदार बोला - कुछ खास नहीं, सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक
चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा,
फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे
लिटाया जायेगा, उसके बाद एक दैत्य आकर
आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोडे
बरसायेगा... ! यह सुनकरवह
व्यक्ति बहुत घबराया और उसने रूस के नर्क
की ओर रुख किया, और वहाँ के पहरेदार से
भी वही पूछा, रूस के पहरेदार ने भी लगभग
वही वाकया सुनाया जो वह अमेरिका के नर्क
में सुनकर आया था । फ़िर वह व्यक्ति एक-
एक करके सभी देशों के नर्कों के दरवाजे
जाकर आया, सभी जगह उसे भयानक किस्से सुनने को मिले । अन्त में
जब वह एक जगह पहुँचा,
देखा तो दरवाजे पर लिखा था "भारतीय नर्क" और उस दरवाजे के बाहर उस नर्क में
जाने के लिये लम्बी लाईन लगी थी, लोग भारतीय नर्क में जाने को उतावले हो रहे थे,
उसने सोचा कि जरूर यहाँ सजा कम मिलती होगी... तत्काल उसने पहरेदार से
पूछा कि सजा क्या
है ? पहरेदार ने
कहा - कुछ खास नहीं...सबसे पहले
आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एक
घंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक
कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जायेगा, उसके बाद एक दैत्य आकर
आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोडे
बरसायेगा... ! चकराये हुए व्यक्ति ने
उससे पूछा - यही सब तो बाकी देशों के नर्क
में भी हो रहा है, फ़िर यहाँ इतनी भीड
क्यों है ? पहरेदार बोला - इलेक्ट्रिक चेयर
तो वही है, लेकिन बिजली नहीं है, कीलों वाले
बिस्तर में से कीलें कोई निकाल ले गया है,
और कोडे़ मारने वाला दैत्य
सरकारी कर्मचारी है, आता है, दस्तखत
करता है और चाय-नाश्ता करने
चला जाता है...और कभी गलती से
जल्दी वापस आ भी गया तो एक-दो कोडे़
मारता है और पचास लिख देता है...चलो आ
जाओ अन्दर !!!

Hansi Majak

East or West, India is The Best.....

Forward Karo Market Me Naya Hai.




hansi majak - ek baar ek vyakti marakar nark mein pahuncha, to vahaan usane dekha ki pratyek vyakti ko kisee bhee desh ke nark mein jaane kee chhoot hai . usane socha, chalo amerika vaasiyon ke nark mein jaakar dekhen, jab vah vahaan pahuncha to dvaar par paharedaar se usane poochha - kyon bhaee amerikee nark mein kya-kya hota hai ? paharedaar bola - kuchh khaas nahin, sabase pahale aapako ek ilektrik cheyar par ek ghanta baithaakar karant diya jaayega, fir ek keelon ke bistar par aapako ek ghante litaaya jaayega, usake baad ek daity aakar aapakee jakhmee peeth par pachaas kode barasaayega... ! yah sunakaravah vyakti bahut ghabaraaya aur usane roos ke nark kee or rukh kiya, aur vahaan ke paharedaar se bhee vahee poochha, roos ke paharedaar ne bhee lagabhag vahee vaakaya sunaaya jo vah amerika ke nark mein sunakar aaya tha . fir vah vyakti ek- ek karake sabhee deshon ke narkon ke daravaaje jaakar aaya, sabhee jagah use bhayaanak kisse sunane ko mile . ant mein jab vah ek jagah pahuncha, dekha to daravaaje par likha tha "bhaarateey nark" aur us daravaaje ke baahar us nark mein jaane ke liye lambee laeen lagee thee, log bhaarateey nark mein jaane ko utaavale ho rahe the, usane socha ki jaroor yahaan saja kam milatee hogee... tatkaal usane paharedaar se poochha ki saja kya hai ? paharedaar ne kaha - kuchh khaas nahin...sabase pahale aapako ek ilektrik cheyar par ek ghanta baithaakar karant diya jaayega, fir ek keelon ke bistar par aapako ek ghante litaaya jaayega, usake baad ek daity aakar aapakee jakhmee peeth par pachaas kode barasaayega... ! chakaraaye hue vyakti ne usase poochha - yahee sab to baakee deshon ke nark mein bhee ho raha hai, fir yahaan itanee bheed kyon hai ? paharedaar bola - ilektrik cheyar to vahee hai, lekin bijalee nahin hai, keelon vaale bistar mein se keelen koee nikaal le gaya hai, aur kode maarane vaala daity sarakaaree karmachaaree hai, aata hai, dastakhat karata hai aur chaay-naashta karane chala jaata hai...aur kabhee galatee se jaldee vaapas aa bhee gaya to ek-do kode maarata hai aur pachaas likh deta hai...chalo aa jao andar !!! hansi majak aiast or waist, indi is thai baist..... forward karo markait mai nay hai.

Post a Comment

0Comments

Thanks for any suggestions or questions! We will reply to your message soon.

Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(60)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !