एक राजा ने अपने जीजा की सिफारिश पर एक आदमी को मौसम विभाग का मंत्री बना

0
Hansi Majak - एक राजा ने अपने जीजा की सिफारिश पर एक आदमी को मौसम विभाग का मंत्री बना दिया।
-  एक बार उसने शिकार पर जाने से पहले उस मंत्री से मौसम की भविष्य वाणी पूछी 
- मंत्री जी बोले "ज़रूर जाइए,,, मौसम कई दिनो  तक बहुत अच्छा है"
- राजा थोड़ी दूर गया था कि रास्ते में एक कुम्हार मिला - वो बोला "महाराज तेज़ बारिश आने वाली है...... कहाँ जा रहे हैं ? "
अब मंत्री के मुक़ाबले कुम्हार की बात क्या मानी जाती, उसे वही चार जूते मारने की सज़ा सुनाई और आगे बढ़ गये
- वोही हुआ। थोड़ी देर  बाद तेज़ आँधी के साथ बारिश आई और जंगल दलदल बन गया , राजा जी जैसे तैसे महल में वापस आए , पहले तो उस मंत्री को बर्खास्त किया ,
फिर उस कुम्हार को बुलाया - इनाम दिया और मौसम विभाग के मंत्री पद की पेशकश की - कुम्हार बोला हुज़ूर मैं क्या जानू? मौसम- वौसम क्या होता है?  वो तो जब मेरे गधे के कान ढीले हो कर नीचे लटक जाते हैं, मैं समझ जाता हूँ वर्षा होने वाली है, और मेरा गधा कभी ग़लत साबित नहीं हुआ
- राजा ने तुरंत कुम्हार को छोड़ कर उसके गधे को मंत्री बना दिया -
तब से ही गधों को मंत्री बनाने की प्रथा चली आ रही है

Hansi Majak




इसका अरुण जेटली के वित्त मंत्री होने से कोई संबंध नहीं है।
Hansi Majak  - गर्लफ्रेंड:-मेरा मोबाइल मां के पास रहता है...
बॉयफ्रेंड :अगर पकड़ी गई तो ?
गर्लफ्रेंड : तुम्हारा नंबर (बैटरी लो) नाम से Save है,,
जब भी तुम्हारा फोन आता है...
मां कहती है लो चार्ज कर लो...।।
लड़का बेहोश है।

एक बार 300 पागल Ship मेँ जा रहे थे..
Ship डूबी नही,
फिर भी सब मर गए..
कैसे..?
बीच समंदर मे Ship बिगड़ गयी थी,
साले धक्का देने उतर गए थे...!!!
एक खरगोश रोज़ एक लोहार की दुकान पर जाता और पूछता
“गाजर है???”

Hansi Majak

लोहार इंकार कर देता।
एक दिन लोहार को बहुत गुस्सा आया और उसने पकड़कर खरगोश के दांत तोड़ दिए।
,
और कहा – अब तू “गाजर” खा के दिखा?
फिर ?
फिर क्या
अगले दिन खरगोश आया और पूछने लगा –
“गाजर का हलवा है???”
इसे कहते हैं attitude.

लड़का : क्या तुम मुझसे प्यार करती हो?
लडकी : हाँ, मै तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकती हू
लड़का : सच
लड़की : हाँ
लड़का : चल फिर 47 का पहाडा सुना फटाफट...
.
लड़की : तु सिंगल ही मरेगा कुत्ते


अध्यापक कक्षा में चिंटू से पूछता है।
.
अध्यापक- समुन्दर में नींबू का पेड़ हो
तो तुम नींबू कैसे तोड़ोगे?
.
चिंटू- चिडि़या बनकर।
.
अध्यापक- तुझे चिडि़या तेरा बाप बनाएगा?
.
चिंटू- समुन्दर में पेड़ आपका बाप लगाएगा?





लड़की कुर्ती सिलवाने टेलर् के

पास गई।

टेलर से बोली :

" भैया कुर्ती का बाजू

नेट वाला लगाना।


टेलर : " मैडमजी !

2G या 3G ya.......jio "




अगर किसी को भी मेरे मैसेज से शिकायत है


या अच्छे नहीं लगते तो आपको पूरा हक


है कि अपने.

. . . . . . . . मोबाईल को अपने नज़दीकी दीवार पे ज़ोर से मारकर तोड़ दें


क्योंकि आपकी खुशी से बढ़कर और कुछ नही है मेरे लिए।
Hansi Majak - एक बच्चे को आम का पेड़ बहुत पसंद था।
जब भी फुर्सत मिलती वो आम के पेड के पास पहुच जाता।
पेड के उपर चढ़ता,आम खाता,खेलता और थक जाने पर उसी की छाया मे सो जाता।
उस बच्चे और आम के पेड के बीच एक अनोखा रिश्ता बन गया।
बच्चा जैसे-जैसे बडा होता गया वैसे-वैसे उसने पेड के पास आना कम कर दिया।
कुछ समय बाद तो बिल्कुल ही बंद हो गया।
आम का पेड उस बालक को याद करके अकेला रोता।
*एक दिन अचानक पेड ने उस बच्चे को अपनी तरफ आते देखा और पास आने पर कहा,
"तू कहां चला गया था? मै रोज तुम्हे याद किया करता था। चलो आज फिर से दोनो खेलते है।"
बच्चे ने आम के पेड से कहा,
"अब मेरी खेलने की उम्र नही है
मुझे पढना है,लेकिन मेरे पास फीस भरने के पैसे नही है।"
पेड ने कहा,
"तू मेरे आम लेकर बाजार मे बेच दे,
इससे जो पैसे मिले अपनी फीस भर देना।"
उस बच्चे ने आम के पेड से सारे आम तोड़ लिए और उन सब आमो को लेकर वहा से चला गया।
उसके बाद फिर कभी दिखाई नही दिया।
आम का पेड उसकी राह देखता रहता।
एक दिन वो फिर आया और कहने लगा,
"अब मुझे नौकरी मिल गई है,
मेरी शादी हो चुकी है,
मुझे मेरा अपना घर बनाना है,इसके लिए मेरे पास अब पैसे नही है।"
आम के पेड ने कहा,
"तू मेरी सभी डाली को काट कर ले जा,उससे अपना घर बना ले।"
उस जवान ने पेड की सभी डाली काट ली और ले के चला गया।
आम के पेड के पास अब कुछ नहीं था वो अब बिल्कुल बंजर हो गया था।
कोई उसे देखता भी नहीं था।
पेड ने भी अब वो बालक/जवान उसके पास फिर आयेगा यह उम्मीद छोड दी थी
फिर एक दिन अचानक वहाँ एक बुढा आदमी आया। उसने आम के पेड से कहा,
शायद आपने मुझे नही पहचाना,
मैं वही बालक हूं जो बार-बार आपके पास आता और आप हमेशा अपने टुकड़े काटकर भी मेरी मदद करते थे।"
आम के पेड ने दु:ख के साथ कहा,
"पर बेटा मेरे पास अब ऐसा कुछ भी नही जो मै तुम्हे दे सकु।"
वृद्ध ने आंखो मे आंसु लिए कहा,
"आज मै आपसे कुछ लेने
नही आया हूं बल्कि आज तो मुझे आपके साथ जी भरके खेलना है,
आपकी गोद मे सर रखकर सो जाना है।"
इतना कहकर वो आम के पेड से लिपट गया और आम के पेड की सुखी हुई डाली फिर से अंकुरित हो उठी।


वो आम का पेड़ कोई और नही हमारे माता-पिता हैं दोस्तों ।


जब छोटे थे उनके साथ खेलना अच्छा लगता था।


जैसे-जैसे बडे होते चले गये उनसे दुर होते गये।

पास भी तब आये जब कोई जरूरत पडी,

कोई समस्या खडी हुई।


आज कई माँ बाप उस बंजर पेड की तरह अपने बच्चों की राह देख रहे है।


जाकर उनसे लिपटे,

उनके गले लग जाये


Hansi Majak


फिर देखना वृद्धावस्था में उनका जीवन फिर से अंकुरित हो उठेगा।


आप से प्रार्थना करता हूँ यदि ये कहानी अच्छी लगी हो तो कृपया ज्यादा से ज्यादा लोगों को भेजे ताकि किसी की औलाद सही रास्ते पर आकर अपने माता पिता को गले लगा सके !

Hansi Majak - कलियुग में यक्ष के प्रश्नों के उत्तर:-
यक्ष :- आकाश से भी ऊँचा क्या है ?
Me :- बिहार के टॉपर.
यक्ष :- पवन से भी तेज़ गति किसकी है ?
Me :- Airtel 4G.
यक्ष :- मृत्यु के समीप हुए व्यक्ति का सच्चा मित्र कौन है ?
Me :- जो मरने वाले का मोबाइल फॉर्मेट कर दे.
यक्ष :- पृथ्वी को किस वस्तु ने ढक रखा है ?
Me :- नरेंद्र मोदी की घोषणाओं ने.
यक्ष :-  धरती पर ईश्वर का सबसे विचित्र अविष्कार क्या है ?
Me :- राहुल गाँधी.
यक्ष :- धरती पर ऐसी कौन सी मुसीबत है जिसका हल स्वयं ब्रह्मा जी के पास भी नहीं है ?
Me :- केजरीवाल की खांसी.
यक्ष :- कलयुग में नारद मुनि के सामान तीनों लोकों  का ज्ञाता कौन है ?
Me :- गूगल बाबा.
यक्ष :- लज्जा क्या है ?
Me :- माधुरी दीक्षित की फ़िल्म.
यक्ष :- दया क्या है ?
Me :- जेठालाल की पत्नी.
यक्ष :- मनुष्य किसके पीछे पागल है?
Me :- Reliance Jio के पीछे

Hansi Majak

इसके बाद से यक्ष अंकल कोमा में हैं
होश में आते ही आगे की
प्रश्नोत्तरी प्रकाशित की जाएगी..

Hansi Majak - माँ का फ़ोन आया, "बेटा, इस मंगलवार को
छुट्टी लेकर घर आ जाना, कुछ जरूरी काम है।"
"मम्मी, ऑफिस में बहुत काम है, बॉस छुट्टी नहीं देगा।" आँखों से अंगारे बरसाते हुए रावण जैसे प्रतीत हो रहे बॉस की तरफ देखकर मैं जल्दी से फुसफुसाया।
"वो एक रिश्ता आया था तुम्हारे लिये,
बड़ी सुंदर लड़की है, सोच रही थी कि
एक बार तुम दोनों मिल लेेते तो..."
"अरे माँ, बस इतनी सी बात, तुम कहो और मैं ना आऊँ, ऐसा हो सकता है भला?"
मन में फूट रहे लड्डूओं की आवाज छिपाते हुए मैंने जवाब दिया।
बॉस को किसी तरह टोपी पहनाकर,
तत्काल कोटे में रिजर्वेशन कराने के बाद

Hansi Majak

सोमवार की रात घर पर पहुँचा।
माँ ने कुछ ज्यादा बात नहीं की,
बस खाना परोसा और दूसरे दिन
जल्दी उठ जाने को कहा।
सुबह के 4 बजे तक तो नींद आँखों से कोसों दूर थी,
फिर आँख लगी तो सुबह 7 बजे मोबाइल के अलार्म के साथ ही नींद खुली।
माँ ने चाय देते हुए कहा,
"बाथरूम में कपड़े रखे हैं, बदलकर आ जाओ।"
बाथरूम में पुरानी टी-शर्ट और शॉर्ट्स देखकर दिमाग ठनका,
बाहर आकर पूछा तो माँ ने मनोरम मुस्कान बिखेरते हुए कहा,
"दीवाली में घर की सफाई का बोलती तो तू काम का बहाना बनाकर टाल देता, चल अब जल्दी से ये लंबी वाली झाड़ू उठा और दीवार के कोने साफ कर, बहुत जाले हो गये हैं।
Tags

Post a Comment

0Comments

Thanks for any suggestions or questions! We will reply to your message soon.

Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(60)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !